Tana Bhagat Andolan 9 important तथ्य in Hindi with PDF.

Tana Bhagat Andolan

Hello aspirants, Tana Bhagat Andolan in Hindi Jharkhand GK Series में हम (Jharkhandjobportal) Jharkhand Tribal revolt – Tana Bhagat Andolan in Hindi भाषा में Discuss करेंगे।

Jharkhand ka Itihaas (History) Samanya Gyan Series में “Tana Bhagat Andolan” से Jharkhand राज्य में आयोजित सभी प्रतियोगिता परीक्षाओं जैसे JPSC, JSSC CGL, Daroga Exam या अन्य Jharkhand Sarkari Naukri में प्रश्न पूछे जाते हैं।

Tana Bhagat Andolan in Hindi (1914)

इस आंदोलन को बिरसा आंदोलन का ही हिस्सा माना गया। टाना भगत आंदोलन के मुख्य नेता जतरा भगत और सिबू भगत थे। टाना भगतों आंदोलन मुख्यतः उरांव जनजात्ती से सम्बंधित है पर इस आंदोलन में मुंडा और खड़िया जनजात्ती भी शामिल थी।

जतरा भगत – परिचय 

उनका जन्म सितंबर 1888 में ग्राम चिंगरी (बिशुनपुर, गुमला) में हुआ था। उन्होंने दावा किया कि उरांव के सर्वोच्च देवता धर्मेश ने प्राचीन ‘कुड़ुख’ धर्म की प्रचार के लिए काम करने आदेश दिया है।

अप्रैल 1914 में, उन्होंने अपने साथी ग्रामीणों को बताया कि उनकी प्रार्थना के दौरान, उन्होंने एक चमकदार आकृति (धर्मेश भगवान) देखी थी। धर्मेश ने उन्हें सत्य का संदेश फैलाने का आदेश दिया था।

Tana Bhagat Andolan

जतरा ने घोषणा की कि एक सपने में धर्मेश (सर्वोच्च भगवान) ने उसे मटिया (भूत-प्रेत) और आत्माओं में विश्वास न करने, जानवरों की बलि और शराब को त्यागने और अपने खेतों की जुताई करने के लिए गायों और बैलों का इस्तेमाल न करने का आदेश दिया है। 

वर्ष 1916 में जतरा भगत को कैद कर जेल भेज दिया गया और प्रताड़ित किया गया। बाद में उनकी मृत्यु हो गयी। Tana Bhagat ने शाकाहार पर जोर दिया और एक सरल जीवन जीने का प्रचार किया और समाज में प्रचलित अंध विश्वासों और रूढ़िवाद के खिलाफ आवाज़ उठाया।

Must Read: Birsa Munda in Hindi – Top 30 most important facts with pdf.

Tana Bhagat andolan के कारण

Tana Bhagat अंग्रेजों के बेरहम और दयनीय रवैये से असंतुष्ट थीं, इसके अलावा पुलिस और ज़मींदार भी उनके प्रति दमनकारी थे। इन स्थितियों ने उरांवों के बीच एक विद्रोही रवैया पैदा किया।

आंदोलन के अनुयायी जतरा भगत और सिबू भगत धार्मिक रूप से प्रभावित थे। जतरा भगत ने कृषि संबंधी मुद्दों को सामने लाया और अंग्रेजी हुकूमत को किराया न देने का अभियान चलाया।

जतरा भगत की मृत्यु के बाद देवमनियां भगत, सिबू भगत, बलराम भगत और भीखू भगत ने आंदोलन का कमान संभाला। इन्होने आंदोलन को विकसित करने के लिए इसे मसीहाई स्वरुप प्रदान किया। 

Tana Bhagat andolan का प्रसार

टाना भगतों ने मसीहा के रूप में “जर्मन कैसर बाबा” को स्वीकार किया क्यूंकि ये लोग प्रथम विश्व युद्ध में जर्मनी की अंग्रेजों की विरुद्ध सफलता से प्रेरित थे। टाना भगत आंदोलन शुरू में एक धार्मिक आंदोलन के रूप में शुरू हुआ लेकिन बाद में एक राजनीतिक आंदोलन में बदल गया। 

“इस आंदोलन का मुख्य उद्देश्य छोटा नागपुर क्षेत्रों में स्वायत्तता स्थापित करना था।”

Tana Bhagat andolan और गाँधी 

वर्ष 1919 में सिबू भगत और इनके साथी को गिरफ्तार कर लिया गया और इस कारण यह आंदोलन कमजोर पड़ने लगा। आंदोलन का कमान जीतू भगत और तुरिया भगत ने संभाला पर काम नहीं बना। 

आंदोलन में जान फुकने के लिए टाना भगतों ने इस आंदोलन को भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के साथ जोड़ दिया। टाना भगत यह मानने लगे की गाँधी जतरा भगत का पुनर्जन्म है और 1921 की असहयोग आंदोलन में सिद्धू भगत अपने साथियों के साथ कूद पड़े। 

टाना भगतों से प्रभवित हो कर गाँधी ने कहा था ” टाना भगत उनके सर्वाधिक प्रिय अनुयायी हैं।” 

टाना भगतों ने क्रमशः 1922 और 1923 में कांग्रेस के गया अधिवेशन और नागपुर अधिवेशन में भी भाग लिया। 1940 के रामगढ अधिवेशन में टाना भगतों ने गाँधी को 400 रुपये की एक थैली भेट की थी। 

टाना भगतों ने क्रांतिकारी कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ मिलकर लड़ाई लड़ी। वे  सत्याग्रह आंदोलन और सविनय अवज्ञा आंदोलन में भी सक्रिय थे।

भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन के दौरान, सैकड़ों टाना भगतों को ब्रिटिश सरकार द्वारा कैद कर प्रताड़ित किया गया था। टाना भगत आंदोलन को भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन का “शुद्ध आदिवासी रूप” भी कहा गया था। 

Tana Bhagat Andolan से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न

Sr no.QuestionAnswer
1.Tana Bhagat Andolan की शरुवात/नेतृत्व किसने की ?जतरा उरांव
2.Tana Bhagat Andolan कब हुआ था ? अप्रैल 1914 में
3.जतरा भगत के पिता का क्या नाम था ? कोहरा भगत।
4.किसके नेतृत्व में Tana Bhagat Andolan असहयोग आंदोलन से जुड़े ?सिद्धू भगत
5.विशुद्ध गाँधीवादी तरीके से लड़ा गया पहला आदिवासी आंदोलन कौन था ? Tana Bhagat Andolan
6.Tana Bhagat को कितने वर्गों में विभाजित थे ? 2 वर्गों में
7.Tana Bhagat के वर्गों के नाम ? 1. अरुवा भगत और 2. जुलाहा भगत।
8.जतरा भगत की पत्नी का क्या नाम था ? बुधनी भगत।
9.जतरा भगत के गुरु का क्या नाम था ? तुरिया भगत

Attempt QUIZ

Must attempt QUIZ on Tana Bhagat Andolan QUIZ: Top 11 important MCQs

Tana Bhagat Movement PDF in Hindi

View PDF

Download

Dear AspirantsJharkhand GS की इस Series में हमने Tana Bhagat Andolan in Hindi – 9 important तथ्य in Hindi with PDF. के बारे में Discuss किया। यह GS/GK Series आपको Jharkhand में होने वाले सभी Sarkari Naukri Exams में आपकी मद्दद करेगा।

Also Read:

Jharkhand ka Bhugol – Top 30 useful facts of Jharkhand with pdf.

Jharkhand Samanya Gyan in Hindi – British entry into Jharkhand

Jharkhand Current affairs quiz in Hindi – झारखण्ड समसामयिकी – पार्ट – 1

History of computer in Hindi

Tana Bhagat Andolan 9 important तथ्य in Hindi with PDF.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to top