Computer in Hindi-20 important points!

Hello Aspirants, Computer Notes in Hindi series में हम Basic Computer in Hindi की पूरी series लेकर आ रहे हैं। 

इस Computer in Hindi notes series में Computer awareness की पूरी जानकारी दी जाएगी जो विभिन्न Sarkari Naukri Exams में जरूर पूछे ही जाते हैं।

Computer in Hindi: Introduction

हम सभी अपने दैनिक जीवन में गणनाओं (CALCULATIONS) से परिचित हैं। हम गणना के लिए गणितीय संचालन जैसे जोड़, घटाव, गुणा, आदि और कई अन्य सूत्र लागू करते हैं। 

सरल गणनाओं में कम समय लगता है। लेकिन जटिल गणनाओं में अधिक समय लगता है।

computer-in-hindi

एक अन्य कारक गणना में सटीकता (ACCURACY) है। क्यूँकि बिना इसके गणना व्यर्थ है इसलिए मनुष्य ने एक मशीन विकसित करने के विचार के साथ खोज की जो इस प्रकार की अंकगणितीय गणना तेजी से और पूरी सटीकता के साथ कर सके।

मनुष्य ने एक उपकरण या मशीन को जन्म दिया जिसे ‘कंप्यूटर’ कहा जाता है।

What is Computer in Hindi?

कम्प्यूटर क्या है? कंप्यूटर एक उन्नत इलेक्ट्रॉनिक उपकरण (ELECTRONIC DEVICE) है जो उपयोगकर्ता से Input के रूप में कच्चा डेटा (raw data) लेता है और इन डेटा को निर्देशों के सेट (set of instructions) (प्रोग्राम) के नियंत्रण में Process करता है और परिणाम (Output) देता है। 

यह संख्यात्मक और गैर-संख्यात्मक (अंकगणित और तार्किक) दोनों गणनाओं को संसाधित (Process) कर सकता है।

Function of Computer

➤ एक कंप्यूटर में चार कार्य होते हैं:

इनपुट (Input) = डेटा स्वीकार करना,

प्रोसेसिंग (Processing) = डेटा प्रोसेस करना,

उत्पादन (Output) = उत्पादन करना, 

भंडारण (Storage) = परिणाम को स्टोर करना। 

प्रक्रिया (Process): प्रक्रिया दिए गए निर्देश के अनुसार डेटा का संचालन है। यह कंप्यूटर सिस्टम की पूरी तरह से आंतरिक प्रक्रिया है।

आउटपुट (Output): आउटपुट, डाटा प्रोसेसिंग के बाद कंप्यूटर द्वारा दिया जाने वाला संसाधित डेटा (Processed data) है। 

आउटपुट को परिणाम भी कहा जाता है। हम भविष्य में उपयोग के लिए इन परिणामों को Storage Devices में Save किए जा सकते हैं।

नियंत्रण (Control): कंट्रोल, प्रोसेसिंग और आउटपुट जैसे सभी ऑपरेशंस को कंट्रोल यूनिट (Control Unit) द्वारा किया जाता है। यह कंप्यूटर के अंदर सभी संचालन के Step-by-Step processing का ख्याल रखता है। 

Computer System

  • कम्प्यूटर सिस्टम ➭हार्डवेयर + सॉफ्टवेयर + उपयोगकर्ता (User).
  • हार्डवेयर ➭आंतरिक उपकरण (Internal Devices) +  परिधीय उपकरण  ( Peripheral Devices)
  • कंप्यूटर के सभी भौतिक भाग (या हम जो कुछ भी छू सकते हैं) को हार्डवेयर के रूप में जाना जाता है।

सॉफ्टवेयर ➭ सॉफ्टवेयर प्रोग्राम – निर्देशों का सेट (set of instructions) है, जो कंप्यूटर को “बुद्धिमत्ता” प्रदान करता है।

USER ➭ व्यक्ति, जो कंप्यूटर का संचालन करता है।

Characteristics of Computer

कंप्यूटर की प्रमुख विशेषताओं को इनकी गति (Speed), सटीकता (Accuracy), परिश्रम (diligence), बहुमुखी प्रतिभा (versatility) और स्मृति (memory) के शीर्षकों के तहत बांटा जा सकता है।

गति (speed) : जैसा कि आप जानते हैं कि कंप्यूटर बहुत तेजी से काम कर सकता है। गणना के लिए केवल कुछ सेकंड लगते हैं जिन्हें पूरा करने में हमें घंटों लगते हैं।

कंप्यूटर प्रति सेकंड लाखों (1,000,000) निर्देशों को Process कर सकता है,  इसलिए, हम एक माइक्रोसेकंड (micro-second) या नैनोसेकंड (nano-second) के संदर्भ में कंप्यूटर की गति निर्धारित करते हैं।

सटीकता (Accuracy): मान लीजिए कि कोई व्यक्ति तेजी से गणना करता है, लेकिन कंप्यूटिंग में बहुत सारी त्रुटियां करता है तो ऐसे परिणाम का कोई फायदा नहीं ।

कंप्यूटर की सटीकता की डिग्री बहुत अधिक है और प्रत्येक गणना उसी सटीकता के साथ की जाती है। सटीकता का स्तर कंप्यूटर के डिजाइन के आधार पर निर्धारित किया जाता है। 

परिश्रम (Diligence): एक कंप्यूटर थकान, एकाग्रता की कमी से मुक्त है। यह बिना किसी त्रुटि के घंटों तक काम कर सकता है।

यदि लाखों गणनाएं की जानी हैं, तो एक कंप्यूटर प्रत्येक गणना को एक ही सटीकता से करेगा। इस क्षमता के कारण, यह एक नियमित प्रकार के काम में इंसान को मात देता है।

बहुमुखी प्रतिभा (Versatility): इसका मतलब है कि पूरी तरह से अलग तरह के काम करने की क्षमता।

पेरोल स्लिप तैयार करने के लिए आप अपने कंप्यूटर का उपयोग कर सकते हैं। अगले क्षण आप इसे इन्वेंट्री प्रबंधन के लिए या इलेक्ट्रिक बिल तैयार करने के लिए उपयोग कर सकते हैं।

याद रखने की शक्ति (Power of Remembering): कंप्यूटर में किसी भी सूचना या डेटा को संग्रहीत करने की शक्ति होती है। किसी भी जानकारी को संग्रहीत और याद रखा जा सकता है जब तक आपको इसकी आवश्यकता होती है।

नो माइंड (Mindless): कंप्यूटर एक डंब (dumb) मशीन है और यह उपयोगकर्ता से निर्देश के बिना कोई काम नहीं कर सकता है। यह सटीकता के साथ जबरदस्त गति से निर्देश करता है। इसलिए एक कंप्यूटर अपना निर्णय नहीं ले सकता है।

कोई फीलिंग नहीं (Feeling-less): इसमें भावनाओं, स्वाद, ज्ञान और अनुभव नहीं होता है। इस प्रकार यह काम के लंबे घंटों के बाद भी थकता नहीं है। यह उपयोगकर्ताओं के बीच अंतर नहीं करता है।

स्टोरेज (Storage): कंप्यूटर में एक इन-बिल्ट मेमोरी होती है जहां यह बड़ी मात्रा में डेटा स्टोर कर सकता है। 
आप डेटा को सेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस जैसे DVDs, Pendrives आदि में भी स्टोर कर सकते हैं जिसे आपके कंप्यूटर के बाहर रखा जा सकता है और दूसरे कंप्यूटरों में ले जाया जा सकता है।

Memory units in Computer

0,1 = 1 Bit;

4 Bits = 1 Nibble,
8 Bits = 1 Byte = 2 Nibble,
1 Byte = 1 Character,
1024 Byte = 1 Kilo- Byte (KB),
1024 KB = 1 Mega-Byte (MB),
1024 MB = 1 Giga-Byte (GB),
1024 GB = 1 Tera-Byte (TB)

😊😊

Dear Aspirants, Basic Computer in Hindi Series मेंहमने Computer के कुछ Basics के बारे में पढ़ा। 

इस Series के अगले कड़ी में हम History of Computers के बारे में पढ़ेंगे जो Computer Awareness के लिए एक Most Important topic हैं।  

 



    About Computer in Hindi




    Hello Aspirants, Computer Notes in Hindi series में हम Basic Computer in Hindi की पूरी series लेकर आ रहे हैं।

    इस Computer in Hindi notes series में Computer awareness की पूरी जानकारी दी जाएगी जो विभिन्न Sarkari Naukri Exams में जरूर पूछे ही जाते हैं।





    Introduction:


    हम सभी अपने दैनिक जीवन में गणनाओं (CALCULATIONS) से परिचित हैं। हम गणना के लिए गणितीय संचालन जैसे जोड़, घटाव, गुणा, आदि और कई अन्य सूत्र लागू करते हैं। 

    सरल गणनाओं में कम समय लगता है। लेकिन जटिल गणनाओं में अधिक समय लगता है।

    computer-in-hindi


    एक अन्य कारक गणना में सटीकता (ACCURACY) है। क्यूँकि बिना इसके गणना व्यर्थ है इसलिए मनुष्य ने एक मशीन विकसित करने के विचार के साथ खोज की जो इस प्रकार की अंकगणितीय गणना तेजी से और पूरी सटीकता के साथ कर सके।

    मनुष्य ने एक उपकरण या मशीन को जन्म दिया जिसे ‘कंप्यूटर’ कहा जाता है।


    What is Computer in Hindi



    कम्प्यूटर क्या है? कंप्यूटर एक उन्नत इलेक्ट्रॉनिक उपकरण (ELECTRONIC DEVICE) है जो उपयोगकर्ता से Input के रूप में कच्चा डेटा (raw data) लेता है और इन डेटा को निर्देशों के सेट (set of instructions) (प्रोग्राम) के नियंत्रण में Process करता है और परिणाम (Output) देता है। 

    यह संख्यात्मक और गैर-संख्यात्मक (अंकगणित और तार्किक) दोनों गणनाओं को संसाधित (Process) कर सकता है।


    Function of Computer



    ➤ एक कंप्यूटर में चार कार्य होते हैं:

    इनपुट (Input) = डेटा स्वीकार करना,


    प्रोसेसिंग (Processing) = डेटा प्रोसेस करना,

    उत्पादन (Output) = उत्पादन करना,
     
    भंडारण (Storage) = परिणाम को स्टोर करना। 

    Input (डेटा): इनपुट – कंप्यूटर में दर्ज की गई कच्ची जानकारी (Raw information) है। यह अक्षरों, संख्याओं, चित्रों आदि का संग्रह है।

    प्रक्रिया (Process): प्रक्रिया दिए गए निर्देश के अनुसार डेटा का संचालन है। यह कंप्यूटर सिस्टम की पूरी तरह से आंतरिक प्रक्रिया है।

    आउटपुट (Output): आउटपुट, डाटा प्रोसेसिंग के बाद कंप्यूटर द्वारा दिया जाने वाला संसाधित डेटा (Processed data) है। 

    आउटपुट को परिणाम भी कहा जाता है। हम भविष्य में उपयोग के लिए इन परिणामों को Storage Devices में Save किए जा सकते हैं।

    नियंत्रण (Control): कंट्रोल, प्रोसेसिंग और आउटपुट जैसे सभी ऑपरेशंस को कंट्रोल यूनिट (Control Unit) द्वारा किया जाता है। यह कंप्यूटर के अंदर सभी संचालन के Step-by-Step processing का ख्याल रखता है। 


    Computer System


    कम्प्यूटर सिस्टम 
     हार्डवेयर + सॉफ्टवेयर + उपयोगकर्ता (User). 

    हार्डवेयर 
     आंतरिक उपकरण (Internal Devices) +  परिधीय उपकरण  ( Peripheral Devices)

    कंप्यूटर के सभी भौतिक भाग (या हम जो कुछ भी छू सकते हैं) को हार्डवेयर के रूप में जाना जाता है।

    सॉफ्टवेयर 
     सॉफ्टवेयर प्रोग्राम – निर्देशों का सेट (set of instructions) है, जो कंप्यूटर को “बुद्धिमत्ता” प्रदान करता है।

    USER ➭ व्यक्ति, जो कंप्यूटर का संचालन करता है।


     Characteristics of Computer




    कंप्यूटर की प्रमुख विशेषताओं को इनकी गति (Speed), सटीकता (Accuracy), परिश्रम (diligence), बहुमुखी प्रतिभा (versatility) और स्मृति (memory) के शीर्षकों के तहत बांटा जा सकता है।

    गति (speed) : जैसा कि आप जानते हैं कि कंप्यूटर बहुत तेजी से काम कर सकता है। गणना के लिए केवल कुछ सेकंड लगते हैं जिन्हें पूरा करने में हमें घंटों लगते हैं।

    कंप्यूटर प्रति सेकंड लाखों (1,000,000) निर्देशों को Process कर सकता है,  इसलिए, हम एक माइक्रोसेकंड (micro-second) या नैनोसेकंड (nano-second) के संदर्भ में कंप्यूटर की गति निर्धारित करते हैं।

    इससे आप अंदाजा लगा सकते हैं कि आपका कंप्यूटर कितनी तेजी से काम करता है।

    सटीकता (Accuracy): मान लीजिए कि कोई व्यक्ति तेजी से गणना करता है, लेकिन कंप्यूटिंग में बहुत सारी त्रुटियां करता है तो ऐसे परिणाम का कोई फायदा नहीं ।

    कंप्यूटर की सटीकता की डिग्री बहुत अधिक है और प्रत्येक गणना उसी सटीकता के साथ की जाती है। सटीकता का स्तर कंप्यूटर के डिजाइन के आधार पर निर्धारित किया जाता है। 

    कंप्यूटर में त्रुटियां मानव और गलत डेटा के कारण होती हैं।

    परिश्रम (Diligence): एक कंप्यूटर थकान, एकाग्रता की कमी से मुक्त है। यह बिना किसी त्रुटि के घंटों तक काम कर सकता है।

    यदि लाखों गणनाएं की जानी हैं, तो एक कंप्यूटर प्रत्येक गणना को एक ही सटीकता से करेगा। इस क्षमता के कारण, यह एक नियमित प्रकार के काम में इंसान को मात देता है।

    बहुमुखी प्रतिभा (Versatility): इसका मतलब है कि पूरी तरह से अलग तरह के काम करने की क्षमता। 

    पेरोल स्लिप तैयार करने के लिए आप अपने कंप्यूटर का उपयोग कर सकते हैं। अगले क्षण आप इसे इन्वेंट्री प्रबंधन के लिए या इलेक्ट्रिक बिल तैयार करने के लिए उपयोग कर सकते हैं।

    याद रखने की शक्ति (Power of Remembering): कंप्यूटर में किसी भी सूचना या डेटा को संग्रहीत करने की शक्ति होती है। किसी भी जानकारी को संग्रहीत और याद रखा जा सकता है जब तक आपको इसकी आवश्यकता होती है।

    नो माइंड (Mindless): कंप्यूटर एक डंब (dumb) मशीन है और यह उपयोगकर्ता से निर्देश के बिना कोई काम नहीं कर सकता है। यह सटीकता के साथ जबरदस्त गति से निर्देश करता है। इसलिए एक कंप्यूटर अपना निर्णय नहीं ले सकता है।

    कोई फीलिंग नहीं (Feeling-less): इसमें भावनाओं, स्वाद, ज्ञान और अनुभव नहीं होता है। इस प्रकार यह काम के लंबे घंटों के बाद भी थकता नहीं है। यह उपयोगकर्ताओं के बीच अंतर नहीं करता है।

    स्टोरेज (Storage): कंप्यूटर में एक इन-बिल्ट मेमोरी होती है जहां यह बड़ी मात्रा में डेटा स्टोर कर सकता है। 

    आप डेटा को सेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस जैसे DVDs, Pendrives आदि में भी स्टोर कर सकते हैं जिसे आपके कंप्यूटर के बाहर रखा जा सकता है और दूसरे कंप्यूटरों में ले जाया जा सकता है।

    Memory units in Computer



    0,1 = 1 Bit


    4 Bits = 1 Nibble,

    8 Bits = 1 Byte = 2 Nibble,

    1 Byte = 1 Character,

    1024 Byte = 1 Kilo- Byte (KB),

    1024 KB = 1 Mega-Byte (MB),

    1024 MB = 1 Giga-Byte (GB),

    1024 GB = 1 Tera-Byte (TB)


    😊😊

    Dear Aspirants, Basic Computer in Hindi Series
    में हमने Computer के कुछ Basics के बारे में पढ़ा। 



    इस Series के अगले कड़ी में हम History of Computers के बारे में पढ़ेंगे जो Computer Awareness के लिए एक Most Important topic हैं।  
    Computer in Hindi-20 important points!

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    Scroll to top